Yoga And Exercises For Premature Ejaculation

Yoga And Exercises For Premature Ejaculation
शीघ्रपतन के लिए योग और व्यायाम

जब आप स्वस्थ और निरोग रहेगे तभी आपका सेक्सुअल लाइफ भी खुशहाल हो पायेगा । इसलिए आपने दैनिंकचर्या में योग और व्यायाम को शामिल करे । शीघ्रपतन की समस्या से निजात पाने के लिए आप निचे दिए योग अभ्यास कर सकते है ।

  • सर्वांगासन

  • Paschimottanasana पश्चिमोत्तानासन

  • Vajrasana

  • Gomukhasana

  • Viparita Karani Mudra

  • Ustrasana

  • Surya Namaskar

  • Pranayama

  • Anulom Vilom Pranayama

  • Supta Vajrasana

  • Mandukasana

  • Halasana

  • Bhastrika Pranayama

  • Matsyasana

  • Ustrasana

Premature Ejaculation Tips And Techniques

Premature Ejaculation Tips And Techniques

शीघ्रपतन युक्तियाँ और तकनीक

रिलेशनशिप को सफल बनाए रखने के लिए जरूरी है कि दोनों ही पार्टनर यौन क्रिया के दौरान पूरी तरीके से संतुष्ट हों, लेकिन कई पुरुष शीघ्र पतन या अर्ली इजेकुलेशन (Early Ejaculation) की समस्या के चलते महिला को पूर्ण यौन संतुष्टि नहीं दे पाते है जिसकी वजह से वीर्य स्खलित होने के बाद पुरुष तो चरमोत्कर्ष पर पहुँच जाता है लेकिन महिला साथी शीघ्रपतन के चलते ‘क्लाइमेक्स’ यानि की (ऑर्गेज्‍म) तक नहीं पहुंच पाती, जिससे असंतुष्टि, ग्लानी, हीन-भावना, नकारात्मक विचारो का आना एवं अपने साथी के साथ संबंधों में तनाव आना मुमकिन है।

ज्यादातर अध्धयन में पाया गया हैं कि शीघ्र पतन कोई गंभीर बीमारी नहीं है बल्कि एक प्रकार की मानसिक आदत होती है जिसको छोटी छोटी शीघपतन से जुड़े अभ्याश करके आसानी से काबू किया जा सकता है।

1) उचित समय और उचित स्थान का चयन :-

सेक्स के लिए उचित समय और उचित स्थान का चयन करना अत्यंत आवश्यक हैं । ऐसे स्थान और समय का चयन करें जो दोनों सेक्स पार्टनर के लिए प्रतिकूल हों । शांत और रोमांटिक हों जिससे आप और आप का साथी खुल कर enjoy कर सके ।

2) फोरप्ले :-

सेक्स के दौरान फोरप्ले का बहुत महत्तवपूर्ण स्थान है। फोरप्ले से आपके सेक्स में नवीनता आती है। क्या आपको पता है की स्त्री की कामेच्छा पुरुष की कामेच्छा की अपेक्षा थोड़ी देर से जागृत होती है. इसी असमानता को बराबर करने के लिये संभोग के पूर्व कुछ क्रियाएं जैसे चुम्बन,हॉट बाते,बाहों में जकड़ना,सेंसिटिव बॉडी पार्ट्स के साथ खेलना शामिल है जिन्हे फोरप्ले कहा जाता है.। संभोग की प्रक्रिया के पहले अपने पार्टनर को उत्तेजित करने में अधिक समय लगाएं। यदि इस दौरान इरेक्शन हो जाए तो भी चिंतित न हों। सेक्स करने में जल्दबाजी बिलकुल भी न करें। हमेशा याद रखें एक स्त्री को उत्तेजित होने में पुरुष से ज्यादा समय लगता है । यह आपके लिए एक उपयोगी premature ejaculation treatment हो सकता है ।

3) Stop-Start Technique :-

सेक्स संबंध बनाने में कोई जल्दबाजी न करें। संभोग की प्रक्रिया शुरू करने के बाद बीच-बीच में रुकें और फिर शुरू करें जब ऐसा लगे की वीर्य निकलने वाला है तो रुक जाये इस दौरान अपने पार्टनर का चुंबन करें और उसके नाजुक अंगों को सहलाएं। । ऐसा बार-बार करने से वीर्य को लम्बे समय तक रोकने का अभ्यास होता हैं और शीघ्रपतन में लाभ होता हैं। पीड़ित व्यक्ति में वीर्य स्खलन का अंतराल और क्लाइमेक्स के अंतराल को बढ़ाने के लिए यह अभ्यास करने के लिए कहा जाता हैं।

4) Stop Squeeze Technique :-

सेक्स करते समय जब पुरुष को लगे की वीर्य निकलने ही वाला है तब अपने साथी से गुप्तांग / Glans Penis के निचे दबाने को कहे। इतने जोर से दबाए की वीर्य न निकले और दर्द भी न हो। जब ऐसा लगे की अब वीर्य निकलने की इच्छा समाप्त हो गयी है तब छोड़ दे। अब आधा मिनिट रुक कर दोबारा सेक्स करे और जब वीर्य निकलने का एहसास हो तो दोबारा दबाकर रखे। इस तरह यह अभ्यास 8 से 10 बार करे। धीरे-धीरे अभ्यास के साथ वीर्य निकलने का अंतराल बढ़ जाता हैं । यह premature ejaculation treatment in hindi के बेहतरीन तरीकों में से एक हो सकता है ।

5) हस्त मैथुन / Masturbation :-

शीघपतन से पीड़ित पुरुष को सेक्स करने के 1 या 2 घंटे पहले सामान्य हस्तमैथुन करने को कहा जाता है। ध्यान रखे हस्त मैथुन करने के दौरान कोई जल्दबाजी न बरते इससे बाद में सेक्स करते समय जल्द वीर्य स्खलन नहीं होता हैं। यह क्रिया अधिक उम्र के पुरुषों में काम नहीं आती क्योंकि उनमे हस्तमैथुन करने से दोबारा जल्द सेक्स इच्छा जागृत नहीं हो पाती हैं।

6) Kegel Exercise :-

शीघपतन के इलाज के लिए यह व्यायाम काफी फायदेमंद हैं। इसका अभ्याश करने की विधि है – मूत्र विसर्जन करते समय अचानक मूत्र के बहाव को रोक दे और कुछ सेकंड के अंतराल बार फिर मूत्रविसर्जन करे। मूत्र के बहाव को रोकने के लिए जिस मांसपेशियों का इस्तेमाल होता हैं उन पर ध्यान दे। इसमें जांघ, पृष्ठ और पेट के मांसपेशियों को ढीला रखना हैं। रोजाना इन पेशियों की कसरत करने से शीघ्रपतन में लाभ होता हैं।

7) Use Condom | कंडोम का इस्तेमाल :-

शीघपतन के इलाज में कंडोम की भी अहम भूमिका है । कंडोम के इस्तेमाल से लिंग को जल्द संवेदना नहीं मिलती है और उत्तेजना देरी से मिलने से शीघ्रपतन नहीं होता है । लेकिन कंडोम की गुणवत्ता भी देखनी जरुरी है हमेशा अच्छे क्वालिटी के कंडोम का ही इस्तेमाल करे । यह premature ejaculation treatment in hindi के बेहतरीन तरीकों में से एक हो सकता है ।

8) Change Sex Position :-

इरेक्शन समय में सेक्स पोजीशन का भी काफी महत्व हैं । हमेशा ऐशे सेक्स पोजीशन का ही चयन करे । टॉप सेक्स पोजीशन जिसमे पुरुष स्त्री के ऊपर रहता हैं वीर्य स्खलन को आसानी से कण्ट्रोल कर सकता हैं और अपने सेक्स समय को बढ़ा सकता हैं ।

9) Balance Sex date :-

ज्यादा और कम सेक्स दोनों ही उचित नही हैं । इसलिए अपने सेक्स लाइफ में proper balance बना कर रखे । सप्ताह में 1 से 2 बार सेक्स करना उपयुक्त हैं ।

10) habits :-

अपने रोजाना छोटी छोटी आदतों पर भी ध्यान दे । जैसे सुबह उठना, जल्दी सोना, तनावमुक्त रहना, regular health checkup, खान-पान जैसे daily activities को सुनयोजित करके premature ejaculation treatment किया जा सकता हैं ।

11) नशामुक्त जीवन :-

मॉडर्न तौर तरीको में हम इतने खो गये है हमे यह भी ज्ञात नहीं है हमारे लिए क्या सही है और क्या गलत नशा ऐशी चीज है जो हमारे शरीर को खोखला बना देती हैं । सिगरेट शराब तम्बाखू हमारे प्रजनन छमता को कम करती है जिससे शरीर में ढंग से वीर्य नहीं बन पाता है । शीघपतन से छुटकारा पाने के लिए नशामुक्त जीवन जीने की आदत डालना जरुरी हैं

Premature Ejaculation Diet And Lifestyle

Diet And Lifestyle For Premature Ejaculation

 शीघ्रपतन के लिए आहार और जीवन शैली

रोगी का आहार/पथ्य–

अरहर, उड़द, गेहूं, जौ, छिले आलू, गोभी, शकरकन्दी, पेठा, भिण्डी, केला, लौकी, जिमीकन्द, चैलाई, दूध, दही, घी, मिश्री, दूध मलाई, सेब, अनार, पालक, मोदक, घी-गुड़ा, लुचई आदि पौष्टिक पदार्थ।

अपथ्य-

अधिक खटाई, तेल, लाल मिर्च, व्रतोपवास, अधिक श्रम व मैथुन, मानसिक तनाव, दिन में सोना, व्यभिचार, शोक-भय, अति सर्दी या गर्मी, बासी भोजन, अपने से अधिक आयु की स्त्री के साथ संभोग करना, अप्राकृतिक मैथुन आदि से भी दूर रहना चाहिए।

 

Premature Ejaculation Symptoms

 Symptoms Of Premature Ejaculation

शीघ्रपतन के लक्षण

शीघ्रपतन के मुख्य लक्षण-

  • संभोग करते समय रोगी शीघ्र ही स्खलित हो जाता है। यदि समय पर चिकित्सा नहीं की जाये, तो धीरे-धीरे स्थिति बिगड़ती चली जाती है, जिसके कारण रोगी संभोग से भी पहले, फिर आलिंगन मात्र से और अंत में स्त्री या संभोग का ध्यान आते ही स्खलित हो जाता है। धारण क्षमता नष्ट हो जाती है।

  • शीघ्रपतन से ग्रसित व्‍यक्ति का स्‍वभाव चिड़चिड़ा हो जाता है। उसे सिरदर्द जैसे शा‍रीरिक समस्‍याएं भी हो सकती हैं। इसके अलावा कुछ समय के बाद सेक्स में अरूचि व शारीरिक दुर्बलता भी हो सकती है।

  • संतान सुख की प्राप्ति न हो पाना भी शीघ्रपतन के लक्षणो में एक से हो सकता है ।

  • लिंग का पतला और छोटा होना जैसे लक्षण भी देखनो को मिल सकता है

शीघ्रपतन के अन्य लक्षण-

  • प्रवेश से पहले स्खलन

  • बार-बार प्रयास करने पर भी सेक्स के दौरान ejaculation को 1 मिनट तक ना रोक पाना

  • सेक्स को टालना

  • संभोग करने के बाद एक guilt feeling का होना कि आप partner को संतुष्ट नहीं कर पाए

  • तेज उत्तेजना के बाद तुरंत स्खलन हो जाना |

  • वीर्य का कम बनना अथवा पतलापन होना शीघ्रपतन के लक्षणों में से एक है ।

Reasons Of Premature Ejaculation-shighrapatan

Reasons Of Premature Ejaculation-shighrapatan

शीघ्रपतन के कारण

पुरुषों की सेक्स समस्याओं के मुख्य कारण है –

  • अति हस्तमैथुन

  • अधिक मैथुन करना

  • पाचन संस्थान के रोग

  • शरीर में पोषक तत्वों का अभाव

  • स्वप्नदोष होना

  • जननेन्द्रिय विकार

  • सुजाक

  • मदिरापान करना, अफीम, भांग, चरस आदि नशीले पदार्थों का अधिक सेवन करना आदि।

पुरुषों की सेक्स समस्याओं के अन्य कारण है –

  • हार्मोनल प्रॉब्लम

  • अनुवांशिक कारण

  • डायबिटीज

  • हाई ब्लड प्रेशर

  • प्रोस्टेट डिजीज

  • Multiple sclerosis

  • थाइरॉड

  • कम टेस्टोस्टेरोन

  • एंटीडिप्रेसेंट्स

  • इलाज के साइड इफेक्ट

  • दवाओं का दुरुपयोग

  • तनाव/चिंता/अवसाद

  • यौन प्रदर्शन पर चिंता

  • शारीरिक कारण

  • पिछले दर्दनाक योन अनुभव इत्यादि

  • सेक्स करने का अनुभव ना होना

  • कुछ विशेष positions में सेक्स करने पर

  • नए पार्टनर के साथ सेक्स करने पर

  • बहुत दिनों के बाद सेक्स करने पर

  • ब्रेन केमिकल्स का एब्नार्मल लेवल

  • मूत्रमार्ग में सूजन या संक्रमण

  • ह्रदय रोग और दीर्घकालीन स्वास्थ्य समस्याएं

  • सर्जरी या आघात के कारण नसों में हुई क्षति

  • Ejaculatory system की abnormal reflex activity

  • पेनिस के स्किन का हाइपर सेंसिटिव होना

  • लड़कपन में पकड़े जाने के डर से जल्दबाजी में किया गये सेक्स

  • मन में सेक्स को लेकर guilt feeling होना कि ये गन्दी चीज है

नोट:

  • शीघ्रपतन को एक समस्या तभी माने जब ये बार-बार हो. कभी-कभार होना नॉर्मल है.