IMC HIMALAYAN BERRY DIP TEA

IMC HIMALAYAN BERRY DIP TEA

हिमालयन बैरी टी बैग्स

HIMALAYAN BERRY DIP TEA

सम्मिलित सामग्रीः

  • एलोवेरा सत्त Aloevera Sat : Aloe Barbadensis

  • हिमालयन बेरी Himalayan Berry: Hippophae Salicifolis

  • शंखपुष्पी Shankhpushpi : Convolvulus Pluricaulis

  • यष्टिमधु Yashtimadhu : Glycyrrhiza Glabra

  • लौंग cloves : Syzygium Aromaticum

  • तुलसी Tulsi : Ocimum Sanctum

  • नीम्बू सत् Lemon Sat : citrus Medica

  • अदरक Ginger : Zingiber Officinale

  • सरपंखा Sarpunkha : Tophrosia Purpurea

  • काली मिर्च black pepper : Piper nirgrum

  • नागरमोथा Nagarmatha : Cyperus Scariosus

  • अर्जुन सत् Arujna Sat : Terminalia Arjuna

  • इलायची दाना cardamom : Elettaria cardamomum

  • ब्रह्मी सत् Brahmi Sat : Bappa Monnieri

  • दालचीनी Cinnamon : Cinnamomum zeylanicum

  • अश्वगंधा सत् Ashwagandha : Withania Somnifera

हिमालयन बेरी टी बैग्सः-

  • इसमें विटामिन ए, बी1, बी2, सी, ई और के एवम् पोषक तत्व उच्च मात्रा में पाये जाते हैं और यह प्रोटीन्स, विटामिन्स, एंटी-ऑक्सीडेंट्स, और ऑक्सीजन का उत्तम स्रोत है।

  • हिमालयन बेरी टी बैग्स में शामिल शानदार जड़ी-बूटियों जैसे यष्टिमधु, तुलसी,अदरक, लौंग, नागरमोथा, सरपंखा, ब्रह्मी, अर्जुना इत्यादि हमारे शरीर में एंटी-ऑक्सीडेंट्स केरूप में कार्य करती हैं।

  • यह वजन को कम करने और शुगर को नियंत्रित करने में मदद करती है।

  • पाचन में सुधार करने, भूख बढ़ाने, हृदय को मजबूत व स्वस्थ रखने में सहायक है। यह

  • कोलेस्ट्रॉल दर को कम करती है और रोग-प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने में लाभकारी है।

  • तनाव को कम करने और चिंता मुक्त रखने में भी सहायक है।

GET UPTO 18-40% DISCOUNT AFTER FREE REGISTRATION ON OUR WEBSITE FOR IMC PRODUCTS FILL FORM FROM BELOW

IMC FREE REGISTRATION

📝REGISTRATION📝 के लिए आवश्यक दस्तावेज की फ़ोटो

🎫  आई डी प्रूफ ( आधार कार्ड – FRONT SIDE PHOTO )  🎫

🎫  पता प्रूफ (आधार कार्ड – BACK SIDE PHOTO )  🎫

🎫  पैन कार्ड फोटो  🎫

🙎‍♀  पासपोर्ट साइज फोटो 🙎‍♀

आप ये सभी DOCOMENTS हमारे WHAT’S UP नंबर 📱 83960-07444📱 पर भेज सकते है जेसे ही आपकी डिटेल्स हमारे पास आएगी हम जल्द ही आपसे कांटेक्ट📞  करेंगे

आप हमारा नीचे दिया गया ONLINE FORM भी भरकर हमें भेज सकते है:

आई.एम.सी में रजिस्टर होने के लिए निचे दिए फॉर्म को भरें जल्द ही हम आपसे कांटेक्ट करेंगे

Title*    

S/D/W of

S/D/W Name

Complete Address

Nominee Information (optional)

[recaptcha]

"DG-AYURVEDA-IMC-BUSINESS-WHATS-UP-GROUP-DG-AYURVEDA"

#imcbusinessyoutube#dgayurvedayoutube#imc#imcproducts

IMC HERBAL FACE PACK TUBE

IMC HERBAL FACE PACK TUBE

हर्बल फेस पैक ट्यूब

IMC FACE PACK TUBE (200 GMS)

एलोवेरा ,नीम व चंदन युक्त

  • मुंहासों, धब्बों, महीन लकीरों, फाइन लाइन्स तथा लाल चकत्तों को रोकने में सहायक है।

  • मृत कोशों को पुनर्जीवित करने में भी सहायक है।

  • त्वचा को नया जीवन देने में मदद करता है।

  • मृत त्वचा को हटाने में सहायक है।

  • त्वचा को संक्रमण से बचाता है।

  • लगातार उपयोग करने से त्वचा में निखार लाने मेंलाभदायक है।

  • त्वचा की खोई चमक व आभा को वापिस लाता है।

  • त्वचा को साफ, मुलायम व कोमल बनाने में सहायक है।

IMC FREE REGISTRATION

📝REGISTRATION📝 के लिए आवश्यक दस्तावेज की फ़ोटो

🎫  आई डी प्रूफ ( आधार कार्ड – FRONT SIDE PHOTO )  🎫

🎫  पता प्रूफ (आधार कार्ड – BACK SIDE PHOTO )  🎫

🎫  पैन कार्ड फोटो  🎫

🙎‍♀  पासपोर्ट साइज फोटो 🙎‍♀

आप ये सभी DOCOMENTS हमारे WHAT’S UP नंबर 📱 83960-07444📱 पर भेज सकते है जेसे ही आपकी डिटेल्स हमारे पास आएगी हम जल्द ही आपसे कांटेक्ट📞  करेंगे

आप हमारा नीचे दिया गया ONLINE FORM भी भरकर हमें भेज सकते है:

आई.एम.सी में रजिस्टर होने के लिए निचे दिए फॉर्म को भरें जल्द ही हम आपसे कांटेक्ट करेंगे

Title*    

S/D/W of

S/D/W Name

Complete Address

Nominee Information (optional)

[recaptcha]

#imcbusinessyoutube#dgayurvedayoutube#imc#imcproducts

"DG-AYURVEDA-IMC-BUSINESS-WHATS-UP-GROUP-DG-AYURVEDA"

TULSI OIL- HOW TO MAKE TULSI OIL

TULSI OIL- HOW TO MAKE TULSI OIL

तुलसी का तेल बनाने की विधि :

जड़ सहित पूरा तुलसी का पौधा लेते हैं। फिर इसे धोकर मिट्टी आदि साफ कर लेते हैं। फिर इसे कूटकर आधा किलो पानी और आधा किलो तिल का तेल मिलाकर धीमी-धीमी आंच पर पकाते हैं। पानी जल जाने और तेल शेष रहने पर मलकर छानकर सुरक्षित रख लेते हैं। यही तुलसी का तेल होता है।

TULSI HEALTH BENEFITS AND USES IN SWEELING AND TUMOURS OF THE EAR

TULSI HEALTH BENEFITS AND USES IN SWEELING AND TUMOURS OF THE EAR

कान की सूजन व गांठ :

तुलसी के पत्ते और एरण्ड के ताजे मुलायम पत्ते बराबर मात्रा में मिलाकर पीस लें और फिर इसमें थोड़ा सा नमक मिलाकर कान के पीछे लगाएं। इससे कान की सूजन दूर हो जाती है और गांठे ठीक होती है। इसका उपयोग कनफेडा रोग में भी किया जाता है।