IMC TREATMENT FOR PILES-अर्श-बवासीर

IMC TREATMENT FOR PILES-अर्श-बवासीर

लक्षण:

  • मल त्याग करते समय या उसके बाद खून का आना।

  • गुदा में सूजन, खुजली होना एवम् लाली का होना।

  • गदा के अन्दर और बाहर मस्सों का होना।

सुझाव:

  • कब्ज न होने दें।

  • मिर्च-मसाले वाली चीजों का सेवन न करें।

  • भोजन में रेशेदार एवं हरी पत्तेदार सब्जियों का सेवन करें।

  • मौसमी फलों का सेवन करें।

उपचार:

  • 30-30 मि.ली. एलो संजीवनी जूस + एलोवेरा जूस + श्री तुलसी 2-2 बूँदे सुबह व शाम खाली पेट सेवन करें।

  • टैबलेट पाइल्स अवे 1 सुबह 1 शाम सेवन करें।

  • टैबलेट फ़्रैश मॉर्निग सोते समय 2 गोली का सेवन करें।

  • खाने के पश्चात् स्वादिष्ट पाचन चूर्ण का सुबह शाम सेवन करें।

  • पाइल्स अवे क्रीम का सुबह व शाम इस्तेमाल करें।

Click Here To Get All Products Upto 18-40% DISCOUNT At Your Location#imcregistration#imchealthcard#joinincbusiness#dgayurveda

Click Here to join US for daily health updates,imc produts details,treatments etc……
#imcbusinessinstagram#dgayurvedaINSTAGRAM-FOLLOW-GIF
imcbusinessfacebook#dgayurvedafacebook#imcproductsfacebook#imcbusinessgoogleplus#dgayurvedagoogleplus#imcproducts#imcbusinesstwitter#dgayurvedatwitter#imcproducts  #imcbusinessyoutube#dgayurvedayoutube#imc#imcproducts

 

 

Click Here To Start Your Own Business/Open Own Ayurvedic Store/Work Part Time Or Full
#imcbusiness#dgayurveda#imcproducts#joinimcbusiness

IMC TREATMENT FOR POISON-विष रोग

IMC TREATMENT FOR POISON-विष रोग

जहरीले कीट के काटने जैसे मधुमक्खी, ततैया, खटमल, मच्छर, मकड़ी, पिस्सू, दीमक, तिलचिट्ट, कोकरोच ।

लक्षण:

  • त्वचा में लाली, सूजन, दाह का होना।

  • घबराहट

  • ज्वर का होना

सुझावः

  • खूब ठण्डा पानी पीयें।

  • कीड़े के काटने वाली जगह पर बर्फ मलें।

उपचार:

  • जहां कीड़े ने काटा हो वहां श्री तुलसी की 4 से 5 बूँदे लगाकर मालिश करें ।

  • एक गिलास ताजे पानी में एलोवेरा 20 मि.ली.,जीवन शक्ति रस 30 मि.ली.,दो बूँदे श्री तुलसी की मिलाकर दिन में दो बार पिलायें।

  • ब्लड प्यूरिफायर 10 मि.ली दिन में तीन बार सेवन करवायें।

  • टैब्लेट नीम पयोर 1 सुबह 1 शाम सेवन करें।

Click Here To Get All Products Upto 18-40% DISCOUNT At Your Location#imcregistration#imchealthcard#joinincbusiness#dgayurveda

Click Here to join US for daily health updates,imc produts details,treatments etc……
#imcbusinessinstagram#dgayurvedaINSTAGRAM-FOLLOW-GIF
imcbusinessfacebook#dgayurvedafacebook#imcproductsfacebook#imcbusinessgoogleplus#dgayurvedagoogleplus#imcproducts#imcbusinesstwitter#dgayurvedatwitter#imcproducts  #imcbusinessyoutube#dgayurvedayoutube#imc#imcproducts

 

 

Click Here To Start Your Own Business/Open Own Ayurvedic Store/Work Part Time Or Full
#imcbusiness#dgayurveda#imcproducts#joinimcbusiness

IMC TREATMENT FOR ACIDITY-एसिडिटी-अम्लता

IMC TREATMENT FOR ACIDITY-एसिडिटी-अम्लता

परिचय :

        खून में 20 प्रतिशत अम्ल एसिड अर्थात तेजाब और 80 प्रतिशत क्षार ऐल्काई होता है। जब खून में अम्ल (तेजाब) की मात्रा बढ़ जाती है तो यह अम्ल भोजन पकाने अंग पाकस्थली को प्रभावित करके अम्लता रोग उत्पन्न करता है। अम्लता रोग से पीड़ित रोगी की छाती में जलन व दर्द होता है।

        अम्लपित्त 2 प्रकार की होती है- ऊर्ध्वगामी और अधोगामी। ऊर्ध्वगामी अम्लपित्त में पेट का अपचा व गंदा द्रव्य उल्टी के द्वारा मुंह से बाहर निकल जाता है जबकि अधोगामी में पेट की गंदगी गुदा मार्ग से बाहर निकलता है।

          ऊर्ध्वगामी अम्लपित्त की बीमारी में हरे, काले, पीले, नीले परंतु लाल रंग के अधिक निर्जल, मछली के धोवन के समान बहुत चिकने, कफ के साथ तीखा, कडुवा व क्षारीय रस वाली उल्टी होती है।

          अधोगामी में जलन, मूर्च्छा, प्यास, भ्रम, उबकाई, मोह, मंदाग्नि (पाचनक्रिया का मंदा होना), पसीना और शरीर में पीलापन आदि लक्षण उत्पन्न होते हैं। अधोगामी अम्लपित्त में कड़वी, खट्टी डकारें आना, छाती और गले में जलन, जी मिचलाना, शरीर में भारीपन, अन्न का न पचना, अरूचि, सिर दर्द, हाथ-पैरों की जलन, शरीर का गर्म रहना, खुजली, चकत्ते आदि लक्षण उत्पन्न होते हैं।

कारण :

          अम्लपित्त रोग उत्पन्न होने के कई कारण होते हैं, जैसे- समय पर भोजन न करना, अधिक उपवास करना, बाहरी सड़ी-गली चीजों का सेवन करना, अधिक मिर्च-मसाले वाले भोजन करना, अधिक चाय पीना, कॉफी पीना, शराब पीना आदि। इस सभी कारणों से पाचनशक्ति कमजोरी हो जाती है जिससे वह भोजन को ठीक से नहीं पचा पाती और अम्लपित्त का रोग उत्पन्न हो जाता है।

लक्षण :

  • पेट से निकलने वाला अम्ल जब अधिक लार के साथ गले तक आ जाता है तो पेट में जलन व खट्टापन प्रतीत होता है।

  • इस रोग से पीड़ित रोगी को छाती में जलन व गले में खट्टापन महसूस होता है।

दोनों प्रकार के अम्लपित्त रोग में:

  • मंदाग्नि

  • कब्ज

  • भूख का कम लगना

  • पेशाब कम आना

  • पेट में गैस बनना

  • गले व छाती में जलन

  • चक्कर आना

  • हाथ-पैर

  • कमर व जोड़ों में दर्द होना

  • उल्टी होना

  • थकावट

  • भोजन का ठीक से न पचना

  • नींद का कम आना

  • अधिक आलस्य आना

  • भोजन करने के 1-2 घंटे बाद खट्टी उल्टी होना

  • अरूचि पैदा होना आदि लक्षण पैदा होता है।

  • इस रोग में भोजन के बाद छाती और गले में जलन तथा खट्टी डकार के साथ खट्टा पानी मुंह में आता रहता है।

  • बीड़ी-सिगरेट पीने वाले को अन्य लोगों की तुलना में रात में भारी भोजन करने से अम्लपित्त, शुगर, हृदय रोग, खांसी और दमा आदि बीमारी होने की अधिक संभावना रहती है।

भोजन और परहेज :

  • तोरई, टिण्डा, परवल, पालक, मेथी, मूली, आंवला, नारियल का पानी, पेठे का मुरब्बा, आंवले का मुरब्बा, अमरूद, पपीता आदि का सेवन करना अम्लपित्त के रोगियों के लिए लाभकारी होता है।

  • पुराने शालि चावल, पुरानी जौ, पुराने गेहूं, बथुआ का साग, करेला, लौंग, केला, अंगूर, खजूर, चीनी, घी, मक्खन, सिंघाड़ा, खीरा, अनार, सत्तू, केले का फूल, चीनी, कैथ, कसेरू, दाख, पका पपीता, बेलफल, सेंधानमक, पेठे का मुरब्बा, नारियल का पानी, जंगली जानवरों का मांस व छोटी मछलियों का सूप पीना भी लाभकारी होता है।

  • रात को भोजन अपने सामान्य भूख से थोड़ा कम ही करना चाहिए और भोजन करने के बाद थोड़ी देर घूमना चाहिए व ढीले कपड़े पहनकर सोना चाहिए।

परहेज:

  •  चाय, कॉफी, अंडा, मछली, शराब, तले भोजन, खीर और हलवा का कम से कम सेवन करना चाहिए।

  • बासी या ज्यादा समय से रखा हुआ खाना, मिर्च-मसालेदार खाना, भारी भोजन, मिठाइयां, लालमिर्च, खटाई, अधिक नमक आदि का सेवन कम मात्रा में करना चाहिए।

  • गुड़, खट्टा और चरपरा रस, भारी और अम्ल द्रव्य, नयी फसल का अनाज नहीं खाना चाहिए।

  • तिल का बीज, उड़द की दाल, कुल्थी के तेल में बना पदार्थ, दही, बकरी का दूध, कचौड़ी, पराठे, बेसन से बना पदार्थ, फूलगोभी, आलू, टमाटर, बैंगन आदि का कम से कम सेवन करना चाहिए।

  • अम्लपित्त के रोग से पीड़ित रोगी को अधिक परिश्रम व अधिक स्त्री-प्रसंग से बचना चाहिए।

  • मानसिक अंशाति, गुस्सा, दिन में सोना, रात को जागना और मल-मूत्र का वेग रोकना अम्लपित्त के रोगियों के लिए बहुत हानिकारक होता है।

उपचार:-

RELATED PRODUCTS AND POSTS:-

IMC TREATMENT FOR VOMITING

"VOMITING (उल्टी) IMC TREATMENT"

IMC TREATMENT FOR CONSTIPATION

"CONSTIPATION (कब्ज) IMC TREATMENT"

IMC TREATMENT FOR DIARRHOEA

"IMC TREATMENT FOR DIARRHOEA-दस्त-अतिसार "

IMC TREATMENT FOR DYSENTERY

"IMC TREATMENT FOR IRRITABLE BOWEL SYNDROME(IBS-संग्रहणी)"

IMC TREATMENT FOR GASTRIC ULCERS

"IMC TREATMENT FOR GASTRIC/PEPTIC ULCERS(पाचन संस्थान के घाव)"

IMC TREATMENT FOR GAS TROUBLE

"IMC TREATMENT FOR GAS PROBLEM (वायु विकार)"

IMC TREATMENT FOR CHOLERA

"IMC TREATMENT FOR CHOLERA (हैजा)"

IMC TREATMENT FOR INTESTINAL WORMS

"IMC TREATMENT FOR INTESTINAL WORMS (आँतों में कीड़े (कृमिरोग)"

IMC TREATMENT FOR INDIGETION/DYSPEPSIA

imc-treatment-for-indigetion-dyspepsia-acidity-dg-ayurveda

लिव केयर टेबलेट्स (LIV KARE TABLETS)

लिव केयर सिरप (LIV KARE SYRUP)

स्वादिष्ट पाचन चूर्ण (SWADISHT PACHAN CHURAN)

एलो डाइजेस्ट (ALOE DIGEST)

हर्बोसिड टेबलेट्स (HERBOCID TABLETS)

Imcbusiness#dgayurveda#imcfreshmorningtablets
Imcbusiness#dgayurveda#imcfreshmorningtablets

#imcbusinessyoutube#dgayurvedayoutube#imc#imcproducts

"DG-AYURVEDA-IMC-BUSINESS-WHATS-UP-GROUP-DG-AYURVEDA"

 

IMC TREATMENT FOR INTESTINAL WORMS (आँतों में कीड़े (कृमिरोग)

IMC TREATMENT FOR INTESTINAL WORMS (आँतों में कीड़े (कृमिरोग)

लक्षण :

  • पेट खराब रहना और पेट में दर्द व ऐंठन।

  • बार-बार भूख लगना।

  • वजन कम होना।

  • शारीरिक थकावट महसूस होना।

  • गुदा / मल मार्ग में तथा आसपास खारिश रहना।

  • मल में कृमि का आना।

सुझावः

  • बच्चों में कृमिरोग अधिक होते हैं, इसलिये उनके खाने-पीने में मीठे की मात्रा का विशेष ध्यान रखें।

  • शौच के पश्चात व भोजन करने से पहले हर्बल हैड वॉश तथा वाइरो केयर से हाथ अवश्य धोयें।

  • बच्चे को दूध न देकर केवल फलों के रस को पानी में मिलाकर देना चाहिए।

  • सुबह तीन चम्मच पुदीने का रस, एक चम्मच अनार व एक चम्मच आंवले का रस रोग में लाभदायक है।

  • दो भाग दहीं, एक भाग हर्बल शहद कृमि रोग में लाभदायक है।

उपचार:

नोट :

बच्चों को दवाई देते समय मात्रा का ध्यान रखें।

RELATED PRODUCTS AND POSTS:-

IMC TREATMENT FOR VOMITING

"VOMITING (उल्टी) IMC TREATMENT"

IMC TREATMENT FOR CONSTIPATION

"CONSTIPATION (कब्ज) IMC TREATMENT"

IMC TREATMENT FOR DIARRHOEA

"IMC TREATMENT FOR DIARRHOEA-दस्त-अतिसार "

IMC TREATMENT FOR DYSENTERY

"IMC TREATMENT FOR IRRITABLE BOWEL SYNDROME(IBS-संग्रहणी)"

IMC TREATMENT FOR GASTRIC ULCERS

"IMC TREATMENT FOR GASTRIC/PEPTIC ULCERS(पाचन संस्थान के घाव)"

IMC TREATMENT FOR GAS TROUBLE

"IMC TREATMENT FOR GAS PROBLEM (वायु विकार)"

IMC TREATMENT FOR CHOLERA

"IMC TREATMENT FOR CHOLERA (हैजा)"

IMC TREATMENT FOR ACIDITY

"IMC TREATMENT FOR ACIDITY-एसिडिटी-अम्लता "

IMC TREATMENT FOR INDIGETION/DYSPEPSIA

imc-treatment-for-indigetion-dyspepsia-acidity-dg-ayurveda

श्री तुलसी (SHRI TULSI)

लिव केयर सिरप (LIV KARE SYRUP)

एलो डाइजेस्ट (ALOE DIGEST)

एलोवेरा जूस (ALOEVERA JUICE)

#imc aloevera juice #imcaloeverajuice #aloeverajuice #dgayurveda

एलो संजीवनी जूस

#imc aloe sanjivani juice #imc business #imc products #imc registration free #dg ayurveda #sanjivanijuiceimc

हर्बल गौमूत्र

#imcbusiness#dgayurveda#imcherbalgomutra

बाल शक्ति सिरप

 

IMC TREATMENT FOR GAS PROBLEM (वायु विकार)

IMC TREATMENT FOR GAS PROBLEM (वायु विकार)

लक्षण:

  • पेट में वायु का बनना

  • डकारे आना

  • अफारा हो जाना

सुझाव:

  • एक-दो दिन का उपवास रसाहार पर करें

  • गर्म पानी में नींबू का रस, अदरक का रस मिलाकर दिन में तीन-चार बार लें

  • मसाला लस्सी का सेवन करें।

  • कुछ दिन फलाहार पर रहकर जिसमें भरपूर मात्रा में फल-सब्जियाँ, अंकुरित अनाज इत्यादि हो उसके बाद सामान्य आहार पर आयें

  • चोकर समेत आटे की रोटी, थोड़ा चने का आटा मिलाकर खायें

  • भोजन को ठीक से चबाकर खायें।

  • अधिक गर्म या अधिक ठंडा भोजन न लें।

  • साप्ताहिक उपवास अवश्य करें

  • केवल दो समय ही भोजन करने का नियम बनायें।

  • चीनी, चाय, तली भुनी चीजें, मैदा इत्यादि का सेवन न करें।

  • रोज रात को भिगोए हुए दस दाने मुनक्का एवं दो अंजीर खायें।

उपचार:

RELATED PRODUCTS AND POSTS:-

IMC TREATMENT FOR VOMITING

"VOMITING (उल्टी) IMC TREATMENT"

IMC TREATMENT FOR CONSTIPATION

"CONSTIPATION (कब्ज) IMC TREATMENT"

IMC TREATMENT FOR DIARRHOEA

"IMC TREATMENT FOR DIARRHOEA-दस्त-अतिसार "

IMC TREATMENT FOR DYSENTERY

"IMC TREATMENT FOR IRRITABLE BOWEL SYNDROME(IBS-संग्रहणी)"

IMC TREATMENT FOR GASTRIC ULCERS

"IMC TREATMENT FOR GASTRIC/PEPTIC ULCERS(पाचन संस्थान के घाव)"

IMC TREATMENT FOR CHOLERA

"IMC TREATMENT FOR CHOLERA (हैजा)"

IMC TREATMENT FOR INTESTINAL WORMS

"IMC TREATMENT FOR INTESTINAL WORMS (आँतों में कीड़े (कृमिरोग)"

IMC TREATMENT FOR ACIDITY

"IMC TREATMENT FOR ACIDITY-एसिडिटी-अम्लता "

IMC TREATMENT FOR INDIGETION/DYSPEPSIA

imc-treatment-for-indigetion-dyspepsia-acidity-dg-ayurveda

श्री तुलसी (SHRI TULSI)

लिव केयर टेबलेट्स (LIV KARE TABLETS)

एलो डाइजेस्ट (ALOE DIGEST)

हर्बोसिड टेबलेट्स (HERBOCID TABLETS)

एलोवेरा जूस (ALOEVERA JUICE)

#imc aloevera juice #imcaloeverajuice #aloeverajuice #dgayurveda

एलो संजीवनी जूस

#imc aloe sanjivani juice #imc business #imc products #imc registration free #dg ayurveda #sanjivanijuiceimc

गैस अवे चूर्ण