IMC TREATMENT FOR INTESTINAL WORMS (आँतों में कीड़े (कृमिरोग)

IMC TREATMENT FOR INTESTINAL WORMS (आँतों में कीड़े (कृमिरोग)

लक्षण :

  • पेट खराब रहना और पेट में दर्द व ऐंठन।

  • बार-बार भूख लगना।

  • वजन कम होना।

  • शारीरिक थकावट महसूस होना।

  • गुदा / मल मार्ग में तथा आसपास खारिश रहना।

  • मल में कृमि का आना।

सुझावः

  • बच्चों में कृमिरोग अधिक होते हैं, इसलिये उनके खाने-पीने में मीठे की मात्रा का विशेष ध्यान रखें।

  • शौच के पश्चात व भोजन करने से पहले हर्बल हैड वॉश तथा वाइरो केयर से हाथ अवश्य धोयें।

  • बच्चे को दूध न देकर केवल फलों के रस को पानी में मिलाकर देना चाहिए।

  • सुबह तीन चम्मच पुदीने का रस, एक चम्मच अनार व एक चम्मच आंवले का रस रोग में लाभदायक है।

  • दो भाग दहीं, एक भाग हर्बल शहद कृमि रोग में लाभदायक है।

उपचार:

नोट :

बच्चों को दवाई देते समय मात्रा का ध्यान रखें।

RELATED PRODUCTS AND POSTS:-

IMC TREATMENT FOR VOMITING

"VOMITING (उल्टी) IMC TREATMENT"

IMC TREATMENT FOR CONSTIPATION

"CONSTIPATION (कब्ज) IMC TREATMENT"

IMC TREATMENT FOR DIARRHOEA

"IMC TREATMENT FOR DIARRHOEA-दस्त-अतिसार "

IMC TREATMENT FOR DYSENTERY

"IMC TREATMENT FOR IRRITABLE BOWEL SYNDROME(IBS-संग्रहणी)"

IMC TREATMENT FOR GASTRIC ULCERS

"IMC TREATMENT FOR GASTRIC/PEPTIC ULCERS(पाचन संस्थान के घाव)"

IMC TREATMENT FOR GAS TROUBLE

"IMC TREATMENT FOR GAS PROBLEM (वायु विकार)"

IMC TREATMENT FOR CHOLERA

"IMC TREATMENT FOR CHOLERA (हैजा)"

IMC TREATMENT FOR ACIDITY

"IMC TREATMENT FOR ACIDITY-एसिडिटी-अम्लता "

IMC TREATMENT FOR INDIGETION/DYSPEPSIA

imc-treatment-for-indigetion-dyspepsia-acidity-dg-ayurveda

श्री तुलसी (SHRI TULSI)

लिव केयर सिरप (LIV KARE SYRUP)

एलो डाइजेस्ट (ALOE DIGEST)

एलोवेरा जूस (ALOEVERA JUICE)

#imc aloevera juice #imcaloeverajuice #aloeverajuice #dgayurveda

एलो संजीवनी जूस

#imc aloe sanjivani juice #imc business #imc products #imc registration free #dg ayurveda #sanjivanijuiceimc

हर्बल गौमूत्र

#imcbusiness#dgayurveda#imcherbalgomutra

बाल शक्ति सिरप

 

Write a comment

Your email address will not be published.

3 × one =